लोकसभा चुनाव: दागी सांसद प्रदीप गांधी ने डोंगरगांव का मोर्चा सँभाला…भाजपा प्रत्याशी संतोष पांडे के लिए मांग रहे वोट, ऑपरेशन दुर्योधन के तहत 50 हजार रिश्वत लेते गए थे पकड़े…

राजनांदगांव। डोंगरगांव विधानसभा क्षेत्र के रहने वाले प्रदीप गांधी को भारतीय जनता पार्टी ने विश्वास कर सांसद का टिकट दिया था। कार्यकर्ताओं की मेहनत से जीत भी मिली। लेकिन उन्होंने अपने पद का गलत इस्तेमाल कर जिस जनता ने अपना बहुमूल्य वोट देकर उन्हें सांसद बनाया उसी जनता से सांसद प्रदीप गांधी काम कराने के एवज मे रिश्वत लिया करता था।

इस बात की चर्चा डोंगरगांव सहित पूरे लोकसभा क्षेत्र मे हुई, गांधी परिवार का दबदबा होने के कारण पार्टी के कार्याकर्ताओ सहित आम आदमी खामोश रहते थे लेकिन लोगो के मन मे क्रोध बहुत था। इसी के चलते केन्द्र मे रिश्वत खोर जनप्रतिनिधियो के असली चेहरा जनता के सामने लाने के लिए मिडिया ने आँपरेशन दुर्योधन अभियान चलाया। इसमे भारतीय जनता पार्टी के राजनांदगांव लोकसभा क्षेत्र के सांसद प्रदीप गांधी 50 हजार रूपये नगदी रिश्वत लेते कैमरे में कैद हो गए, जिसके बाद प्रदीप गांधी का सांसद पद छीनकर उन्हें पार्टी से भी निष्कासित किया गया था।

लेकिन आज भारतीय जनता पार्टी इसी दागी सांसद को अपने साथ लेकर चल रही है। गांधी को 2018 विधानसभा चुनाव मे डोंगरगढ विधानसभा क्षेत्र के चुनाव प्रभारी बनाया गया था। साथ ही एक बार की विधायक रही सरोजनी बंजारे का चुनावी संयोजक बनाया गया है। जिसके बाद पार्टी के कार्याकर्ताओ और क्षेत्र के मतदाताओ मे काफी नाराजगी देखने को मिली थी।

इससे सरल, सहज और जनता के लिए काम करने वाली विधायक सरोजनी बंजारे को हार का सामना करना पडा था।

अब लोकसभा चुनाव मे भी केन्द्रीय मंत्री के साथ मंच साझा करने के साथ राजनांदगांव लोकसभा क्षेत्र के प्रत्याशी संतोष पांडे के चुनाव प्रचार का जिम्मा संभालने के लिए भाजपा पार्टी ने गांधी को जिम्मा दिया है और दागी सांसद क्षेत्र के मतदाताओ को संतोष पांडे को जीतने के लिए जनता से वोट की अपील कर रहे हैं।

लेकिन यहां की जनता अभी भी 2004 की रिश्वत कांड को भूली नही है, जिसके चलते डोंगरगांव मे करारा जवाब दिया पर भाजपा ये समझ नही पा रही, या समझकर अन1जान बनी है। अब लोकसभा मे संतोष पांडेय के प्रचार का प्रभार दिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *