साढ़े 6 करोड़ गबन के आरोप में 2 एएसआई और मुखबिर के खिलाफ केस दर्ज

पंजाब। फादर एंथनी के घर से 9.66 करोड़ की राशि की बरामदगी के बाद 6.5 करोड़ करने के मामले में पंजाब की क्राइम पुलिस ने मोहाली में केस दर्ज कर लिया है। आईजी (क्राइम) प्रवीण कुमार सिन्हा का कहना है कि पुलिस आरोपियों को गिरफ्तार करने के लिए छापेमारी कर रही है।
खन्ना पुलिस के दो एएसआई ने मुखबिर के साथ मिलकर फादर एंथनी के घर से 6.5 करोड़ राशि को गायब कर दिया था। आईजी क्राइम प्रवीण कुमार सिन्हा से रिपोर्ट मिलने के बाद डीजीपी दिनकर गुप्ता ने केस दर्ज करने का आदेश दिया था।

जांच में सामने आया कि खन्ना पुलिस ने जिस दिन प्रतापपुरा में छापेमारी की, उस दिन टीम में दो एएसआई जोगिंदर व राजप्रीत शामिल थे। उनके साथ पुलिस का मुखबिर सुरिंदर भी था। तीनों वरना कार में सवार थे। जब ग्राउंड फ्लोर पर 9.60 करोड़ रुपये जब्त कर खन्ना पुलिस की पहली पार्टी निकली तो दोनों एएसआई और मुखबिर पहली मंजिल पर गए।

वहां पर 6.5 करोड़ रुपये थे। उन्होंने उस राशि को कार में रख लिया। यह पुलिस टीम प्रतापपुरा से पहली पार्टी के निकलने के करीब 15 मिनट बाद निकली और काफी समय बाद खन्ना पहुंची। इस पुलिस टीम ने बाकायदा खन्ना जाने लिए अलग रूट का इस्तेमाल किया।
70 फीसदी बड़े नोट गायब मिले
जांच में सामने आया कि 70 फीसदी बड़े नोट गायब थे, जिनको तीनों ने खुर्दबुर्द कर दिया। आईजी ने दोनों पुलिस मुलाजिमों को लिखित बयान देने के लिए बुलाया लेकिन वे ड्यूटी से गायब हो गए। इससे पुलिस का शक गहरा हो गया। आईजी सिन्हा का कहना है कि दोनों लापता एएसआई की तलाश में पुलिस की आधा दर्जन टीमों का गठन किया गया है, जो लगातार छापे मार रही हैं।

दोनों आरोपी एएसआई सस्पेंड कर दिए गए हैं। मामले की पूरी तय कर जांच की जाएगी और किसी भी दोषी को बख्शा नहीं जाएगा।
– दिनकर गुप्ता, डीजीपी, पंजाब पुलिस
जांच के लिए डीजीपी ने बनाई एसआईटी
पादरी फादर एंथनी के घर से बरामद पैसों में से साढ़े छह करोड़ रुपये गायब होने के मामले की जांच के लिए पंजाब के डीजीपी दिनकर गुप्ता ने शनिवार को पांच सदस्यीय एसआईटी का गठन कर दिया। उन्होंने यह फैसला मामले की जांच कर रहे आईजी (क्राइम) प्रवीण सिन्हा की रिपोर्ट के आधार पर किया।

एसआईटी का नेतृत्व आईजी क्राइम प्रवीण सिन्हा को ही सौंपा गया है। एसआईटी के अन्य सदस्यों में, जालंधर के पुलिस कमिश्नर गुरप्रीत सिंह भुल्लर, एसएसपी पटियाला मनदीप सिंह सिद्धू, एसपी राकेश कौशल भी शामिल हैं। जानकारी के अनुसार, आईजी क्राइम द्वारा मामले की जांच में दोनों आरोपी एएसआई के खिलाफ सबूत मिल गए हैं।

वहीं, पादरी के घर रेड करने वाली 17 सदस्यीय टीम के मोबाइल फोन्स की काल डिटेल खंगालने पर आरोपी मुखबिर की, घटना के तुरंत बाद महतपुर से जगराओं से लुधियाना से खन्ना तक आवागमन की जानकारी भी मिली है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *