चुनाव से ठीक 3 दिन पहले बसपा प्रत्याशी ने छोड़ दिया मैदान, रास नहीं आई हाथी की सवारी…थाम लिया कांग्रेस का हाथ, प्रदेश की राजनीति में आया भूचाल… आयोग से की गई खरीद-फ़रोख़्त की शिकायत…

रायपुर। लोकसभा चुनाव-2019 के लिए छत्तीसगढ़ में तीसरे चरण के चुनाव तीन दिन पहले बसपा के एक प्रत्याशी ने मैदान छोड़ दिया। शुक्रवार को उसके कांग्रेस प्रवेश की घोषणा कर दी गई। रायपुर लोकसभा के लिए मतदान आगामी 23 अप्रैल को होना है। चुनाव से ठीक पहले नाटकीय ठंग से शुक्रवार को बहुजन समाज पार्टी से रायपुर लोकसभा प्रत्याशी खिलेश्वर साहू ने कांग्रेस का दामन थाम सबको चौंका दिया। खिलेश्वर साहू ने कांग्रेस के पक्ष में चुनावी मैदान से हटने की घोषणा कर दी है। उन्होंने कांग्रेस प्रत्याशी प्रमोद दुबे को जिताने की अपील की है। इसे लेकर प्रदेश की राजनीति में भूचाल सा आ गया है। बसपा ने खरीद-फरोख्त का आरोप लगाते हुए चुनाव आयोग से शिकायत की है। दूसरी तरफ इसे लेकर भाजपा भी मुखर हो गई है।

अभनपुर विधानसभा क्षेत्र रायपुर लोकसभा क्षेत्र का ही हिस्सा है। पिछड़ा वर्ग फैक्टर को ध्यान में रखते हुए बसपा ने पूर्व प्रदेश अध्यक्ष सदानंद मारकंडेय के सिफारिश पर खिलेश्वर साहू को चुनावी मैदान में उतारा था। वहीं बसपा के प्रदेश प्रभारी लालजी वर्मा और एमएल भारती ने सदानंद के कहने पर ही संगठन के सक्रिय कार्यकर्ता व पदाधिकारी केडी टंडन का टिकट काटकर सामाजिक समीकरण को देखते हुए साहू समाज से टिकट दी गई थी। खिलेश्वर को कांग्रेस से जोडऩे के जोगी कांग्रेस से दलबदलू नेता नितीन भंसाली की अहम् भूमिका मानी जा रही है। कुछ ही दिनों पहले उनका कांग्रेस प्रवेश हुआ है। क्षेत्र में इस बात की चर्चा है कि बसपा प्रत्याशी खिलेश्वर साहू को कांग्रेस प्रवेश कांग्रेस के कद्दावर नेता की बड़ी भूमिका रही है। ये चर्चा भी है कि कांग्रेस के राजधानी से कद्दावर माने जाने वाले नेता के साथ बड़ी लेनदेन की खबर है। जो अंतागढ़ कांड की एक बार फिर याद दिलाता है।
इधर बकांग्रेस महासचिव गिरीश देवांगन का कहना है कि बसपा प्रत्याशी खिलेश्वर साहू ने कांग्रेस प्रत्याशी प्रमोद दुबे को नि:शर्त समर्थन पत्र लिखकर दिया है। समर्थन के दौरान पत्र में खिलेश्वर ने लिखा है चुनाव प्रचार के दौरान बसपा कार्यकर्ता और पार्टी की ओर से कोई सहायता नहीं मिलने से काफी क्षुब्ध थे। इसी उपेक्षा के चलते कांग्रेस का समर्थन देते हुए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के प्रति आस्था व्यक्त किया है। खिलेश्वर साहू ने कहा कि यह फैसला केंद्र की मोदी सरकार के खिलाफ और लोकसभा चुनाव में उन्हें मात देने के नियत से लिया है। श्री साहू के कांग्रेस प्रवेश पर प्रमोद ने कहा कि खिलेश्वर और उनके संबंध बहुत पुराने है।

बसपा ने प्रमोद दुबे पर लगाया खरीद फरोख्त का आरोप

इसे लेकर बहुजन समाज पार्टी के न्यू राजेंद्र नगर स्थित प्रदेश कार्यालय में प्रेसवार्ता आयोजित कर पूर्व प्रदेशाध्यक्ष सदानंद मारकंडेय ने बसपा प्रत्याशी पर दबाव पूर्वक खरीद फरोख्त करने का आरोप कांग्रेस पार्टी पर लगाया है। उन्होंने रायपुर लोकसभा से बसपा प्रत्याशी खिलेश्वर साहू के कांग्रेस प्रवेश कराने की निंदा की है। निर्वाचन आयोग के सीईओ से लिखित में शिकायत करते हुए बसपा ने कांग्रेस प्रत्याशी प्रमोद दुबे पर कार्रवाई करते हुए उनके चुनाव पर प्रतिबंधित लगाने की मांग की है। बसपा कांग्रेस प्रत्याशी और उनके नेताओं की शिकायत न्यू राजेंद्र नगर थाने में शनिवार को कराएगी।
भाजपा नेता इंजी. एमपी मधुकर ने कहा कि चुनाव के दौरान बसपा प्रत्याशी की खरीद फरोख्त कर समर्थन लेना कांग्रेस पार्टी द्वारा लोकतंत्र की हत्या जैसा कृत्य है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed