बड़ी मां ही निकली मास्टर माइंड: प्रेमी के साथ मिलकर रची अपहरण की साजिश, महीने भर पहले ही तैयार कर लिया था स्क्रिप्ट, पल-पल की खबर अपहर्ताओं तक पहुंचाने लगातार रह रही थी विराट के परिवार के साथ…

खबरची बिलासपुर(छत्तीसगढ़) 8 वर्षीय विराट के अपहरण कांड में बड़ा खुलासा हुआ है। विराट की बड़ी मां और उसके प्रेमी ने मिलकर घटना की साजिश रची थी। दोनों ने मिलकर 6 करोड़ रुपये की फिरौती मांगी थी।

दोनों ने एक माह पहले की अपहरण के लिए प्लान तैयार कर लिया था। पुलिस ने बिहार के रहने वाला मुख्य आरोपी और षडय़ंत्रकारी अनिल सिंह राजपूत के साथ ही बड़ी मां नीता सराफ को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस मामले में आज बढ़ा खुलासा कर सकती है।

पुलिस ने बताया कि अपहरण की घटना को 4 लोगों ने मिलकर अंजाम दिया था, जिमसें 3 को पुलिस ने कल ही गिरफ्तार कर लिया था। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, मुख्य आरोपी बिहार का रहने वाला राजकिशोर सिंह को भी गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने अपहरण का कारण 6 करोड़ रुपये की फिरौती करना बताया है, जिसमे परिजनों से डेढ़ करोड़ रुपये तक की डील भी हो गई थी, जिसे पुलिस ने नाकाम कर दिया है।

बता दें की बिलासपुर के भाजपा कार्यालय के सामने से 20 अप्रैल की शाम को बर्तन व्यवसायी के 6 वर्षीय बेटे विराट सराफ का अपहरणकर्ताओं ने बिना नंबर की वैगन आर कार से अपहरण कर लिया था।

6 दिन बीत जाने के बाद शुक्रवार की सुबह 6 बजे बिलासपुर पुलिस ने विराट को अपहरणकर्ताओं के चंगुल से छुड़ाकर उसके परिजनों को सौप दिया। उसके बाद आज शाम कलेक्टर कार्यालय के मंथन सभा कक्ष में पुलिस ने प्रेस कांफ्रेंस कर खुलासा करते हुए बताया कि मासूम विराट का अपहरण 6 करोड़ रुपये की फिरौती के लिए किया गया था।

20 अप्रैल को 3 अपहरणकर्ता वेगनआर कार से विराट का अपहरण करने उसके घर की गली तक पहुंचे थे और एक डस्टर कार रेलवे स्टेशन के करीब थी। वेगनआर से अपहरण करने के बाद सभी डस्टर कार में बैठ गए और बिलासपुर के ही गौरवपथ स्थित अपहरण के मास्टरमाइंड अनिल सिंह द्वारा खरीदे गए मकान में विराट को 6 दिनों तक रखा। पुलिस ने बताया कि अपहरण के दूसरे ही दिन अपहरणकर्ताओं ने कॉल करके 6 करोड़ रुपये की फिरौती की मांग की थी।

परिवार ने इतनी बड़ी रकम देने में असमर्थता जताई। तब अपहरणकर्ताओं ने विराट के परिजनों को उनके रिश्तेदारों के नाम गिनाकर उनसे पैसे मांगने को कहा, जिससे पुलिस को एक सुराग हांथ लग गया।

आरोपियों में बेमेतरा के रहने वाले अनिल सिंह जो कि पेशे से ठेकेदार है और इस अपहरण का मास्टरमाइंड है। उसने रतनपुर के सतीश शर्मा और विशाल सिंह को इसमें शामिल किया। इन सबसे हटकर बिहार का रहने वाला राजकिशोर सिंह भी मास्टरमाइंड है।

पुलिस आईजी प्रदीप गुप्ता ने बताया कि ने बताया कि बिलासपुर के गौरवपथ स्थित मकान में एक अपहरणकर्ता और अपहृत विराट दोनों थे। पुलिस ने मकान की घेराबंदी कर खिड़की से देखा तब अपहरणकर्ता बच्चे को छोड़कर भागने लगा और पुलिस ने उसका पीछा करते एक अपहरणकर्ता को गिरफ्तार कर लिया। उससे कड़ाई से पूछताछ के बाद 2 और अपहरणकर्ताओं की गिरफ्तारी हो गई है और चौथा फरार है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed