निगम विफलता छिपाने गायो को गोद लेने की योजना बना रही है , अपनी जिम्मेदारी जनता पर डालकर – किशोर राय

बिलासपुर प्रदेश में गाय और गोबर को लेकर सियासी घमासान जारी है। भाजपा राज्य सरकार को इसके लिए कई तरह से घेरने में लगी है । पिछले दिनों जैसे पूर्व मंत्री अजय अजय चंद्राकर ने ट्वीट कर इस योजना का मखौल उड़ाया था उसी तरह भाजपा के दिग्गज नेताओं ने भी कई तरह से मुख्यमंत्री को घेरने की तैयारी की है । इधर बिलासपुर नगर निगम के गाय गोद लो अभियान को लेकर भी सियासत शुरू हो गयी है। निगम का ये अभियान शुरू होने के साथ ही विपक्ष के निशाने पर आ गया है। दरअसल, आवारा मवेशियों को कंट्रोल करने के लिए राज्य सरकार रोका-छेका अभियान चला रही है। इसके तहत आवारा मवेशियों को गौठानों में नियंत्रित किया जाना है। लेकिन इस अभियान के बाद भी बिलासपुर नगर निगम क्षेत्र में आवारा मवेशियों पर कंट्रोल नहीं हो रहा है। लिहाज़ा नगर निगम ने इस पर कंट्रोल करने के लिए नया तरकीब निकाला है। जिसके तहत गाय गोद लो अभियान की शुरुवात की गयी है। इसमें आवारा मवेशियों को लोग गोद ले सकेंगे,उन्हें केवल चारे की व्यवस्था करनी होगी, देखभाल की जिम्मेदारी निगम की होगी। इसके एवज में गोद लेने वाले को रोजाना एक टाइम का निशुल्क दूध उपलब्ध कराया जाएगा।इधर रोका-छेका अभियान के बीच निगम का गाय गोद लो अभियान भी विपक्ष के निशाने पर आ गया है। पूर्व महापौर किशोर राय का कहना है, कि निगम अपनी विफलता से लोगों का ध्यान भटकाने के लिए ऐसे अभियान चला है। जबकि आवारा मवेशियों को कंट्रोल कर पाने में निगम फेल साबित हुआ है। रोका-छेका के बाद भी आवारा मवेशी सड़कों में खुलेआम घूम रहे हैं। यही नहीं शहर के मूल विकास के मुद्दों को लेकर भी निगम को गंभीर होने की जरूरत है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed