भितरघात और सत्ता विरोधी लहर ने बढ़ाई चिंता, प्रत्याशियों को मजबूत करने राजधानी से जिले में भेजे जा रहे नेता

रायपुर। दूसरे चरण के विधानसभा चुनाव में सत्ता विरोधी लहर व दर्जनभर सीटों पर भितरघात की आशंका ने चिंता बढ़ा दी है। ऐसी सीटों पर भाजपा प्रत्याशियों की मदद के लिए राजधानी से नेताओं को उन क्षेत्रों में भेजा जाएगा। इसके साथ उक्त क्षेत्रों के लिए फंड भी बढ़ा दिया गया है। सभी प्रत्याशियों को अतिरिक्त पार्टी फंड दिया जा रहा है। सीएम हाउस में कोर ग्रुप की बैठक के बाद यह निर्णय लिया गया है।

पार्टी सूत्रों के मुताबिक, खरसिया में कांटे की टक्कर को देखकर भाजपा ज्यादा चिंतित दिख रही है। खरसिया के लिए रायपुर से वरिष्ठ नेताओं को भेजा गया है। चर्चा है कि फंड मैनेजमेंट भी स्थानीय नेताओं के बजाय रायपुर के नेता देखेंगे। बता दें कि पहले चरण की 18 सीटों पर मतदान के बाद भाजपा उत्साहित नहीं है। यही वजह है कि दूसरे चरण में पार्टी कोई कसर नहीं छोड़ना चाह रही है।

चुनिंदा सीटों पर फंड दे रही कांग्रेस:-
इधर कांग्रेस ने भी कुछ चुनिंदा सीटों पर अतिरिक्त फंड देने का फैसला किया है। हालांकि पहले सभी प्रत्याशियों के लिए अतिरिक्त फंड भेजने की चर्चां थी, लेकिन बाद में उन सीटों पर फोकस किया जा रहा है, जहां पार्टी कमजोर दिख रही है।

भितरघात की आशंका कांग्रेस को भी:-

चुनाव के दौरान खासकर कांग्रेस के लिए भितरघात कोई नई बात नहीं। कुछ सीटों पर इस बार भी ऐसी आशंका जताई जा रही है। खासकर उन सीटों पर जहाँ टिकट के लिए दावेदार अधिक रहे। टिकट वितरण के तुरंत बाद कुछ क्षेत्रों में आक्रोश दिखा भी, जिससे आलाकमान की शंका बनी हुई है। पार्टी ऐसे क्षेत्रों में अधिक फोकस कर रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed