निशाने पर हैं मुख्यमंत्री कमलनाथ के करीबी:आईटी की छापेमारी आज भी जारी गड़बड़ा सकता है कांग्रेस का चुनाव मैनेजमेंट…

भोपाल, 8 अप्रैल। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के करीबियों के 50 ठिकानों पर रविवार को शुरू हुई आयकर विभाग कार्रवाई आज भी जारी है। रविवार तड़के 3 बजे शुरू हुई इस कार्रवाई के कारण प्रदेश से लेकर देश की राजनीति गर्म हो गई है। कांग्रेस ने इसे बदले की भावना से की गई कार्रवाई करार दिया है। वहीं भाजपा ने पलटवार करते हुए मुख्यमंत्री कमलनाथ पर निशाना साधा है। इधर इस पूरे घटनाक्रम का असर चुनाव पर भी पड़ सकता है। इससे कांग्रेस का चुनावी मैनेजमेंट गड़बड़ा सकता है।

यह कार्रवाई कमलनाथ के ओएसडी प्रवीण कक्कड़, सलाहकार रहे आरके मिगलानी, रिश्तेदार रतुल पुरी, दीपक पुरी और मोजरबियर व अमिरा कंपनी के भोपाल, इंदौर, दिल्ली और गोवा स्थित ठिकानों पर की गई। भोपाल में प्लेटिनम प्लाजा स्थित प्रतीक जोशी के घर से 9 करोड़ रुपये नकद बरामद हुए हैं। हालांकि आयकर विभाग ने इसकी आधिकारिक जानकारी नहीं दी है।

सूत्रों के अनुसार, आयकर विभाग के करीब 300 अधिकारियों-कर्मचारियों की टीम ने गोपनीय अंदाज में एक साथ कार्रवाई की। इसकी भनक स्थानीय पुलिस और आयकर विभाग को भी नहीं लगने दी गई। केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल और दिल्ली की आयकर विभाग की टीम ने इसे अंजाम दिया। यहां तक वाहन भी हरियाणा की नंबर प्लेट वाले इस्तेमाल किए गए।

तीन दशकों से कमलनाथ का काम संभाल रहे मिगलानी

आरके मिगलानी विगत तीन दशकों से भी ज्यादा वक्त से कमलनाथ का पूरा काम संभाल रहे हैं। कमलनाथ ने मुख्यमंत्री बनते ही उन्हें अपना सलाहकार नियुक्त किया था लेकिन चुनाव आचार संहिता के चलते इस्तीफा देना पड़ा। हालांकि वह कमलनाथ के सहयोगी की भूमिका में अब भी हैं।

कमलनाथ के ओएसडी हैं कक्कड़

प्रवीण कक्कड़ पूर्व पुलिस अधिकारी हैं। उन्हें राष्ट्रपति पुरस्कार से सम्मानित भी किया गया था। 2004 में नौकरी छोड़कर वह कांग्रेस नेता कांतिलाल भूरिया के ओएसडी बने। दिसंबर 2018 में कमलनाथ के ओएसडी बन गए। बताया जा रहा है कि नौकरी में रहते हुए उनके खिलाफ कई मामले सामने आए, जिनकी जांच चल रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *