गाव के जनप्रतिनिधियों को फसाने और सरकार को निर्दोष साबित करने का चल रहा खेल , गौ मालिको को 1 लाख रुपए की क्षतिपूर्ति दे सरकार : कौशिक

योजना का विरोध नही , क्रिनयानव्यन पर है आपत्ति , कौशिक

सड़को से गोबर उठाकर बेचने पर किस बात का एफआईआर

बिलासपुर तखतपुर तहसील के मेड़पार में हुए तीन दिन पहले गायो की मौत ने अब राजनीतिक तूल पकड़ लिया है । जहां 1 दिन पहले जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ ने पार्टी की जांच कमेटी तैयार कर मेड़पार जाकर जांच की थी वही अब भाजपा भी जांच कमेटी बनाकर आज मेड़पार गई थी । जांच करने पहुचे विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष धर्मलाल कौशिक ने बताया कि मेड़पार में मरी गायो की संख्या को राज्य शासन छिपा रही है । मेड़पार कि घटना में लगभग 54 गाय मेरी है और शासन कम बात रही है । नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि जिला प्रशासन ने जो जांच कमेटी बनाई है वो गांव वालों को धमका रही है साथ ही कमेटी में केवल प्रशासनिक अधिकारियों को शामिल किया गया है जबकि जांच कमेटी में पीड़ित गौ मालिको को भी शामिल किया जाना चाहिए ताकि जांच पारदर्शी हो । पिछले दिनों रसजय गौ सेवा आयोग के अध्यक्ष घटना स्थल पहुचे थे और वो पूरा पूरा घटना की जिम्मेदारी गांव के भोलेभाले ग्रामीणों और वहा के जनप्रतिनिधियों को ही मामले में फसाने और सरकार को निर्दोष साबित करने में लगे है । नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने राज्य सरकार से मांग की है कि जिनकी गाय की मौत हुई है उनको एक लाख रुपए क्षतिपूर्ति देनी चाहिए और जांच टीम में गांव के लोगो को शामिल करें । मेड़पार जांच करने गए टीम में तखतपुर से चुनाव लड़ी हर्षिता पांडेय , सांसद अरुण साव , मस्तूरी विधायक कृष्णमूर्ति बांधी , बेलतरा विधायक रजनीश सिंह सहित भाजपा के पदाधिकारी शामिल रहे ।

You may have missed